शुक्रवार, 25 जुलाई 2008

तमन्ना फ़िर मचल जाए अगर तुम मिलने आजाओ

ग़ज़ल:ग़ज़ल " तमन्ना फ़िर मचल जाए अगर तुम मिलने आजाओ"
जगजीत सिंह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!