रविवार, 27 जुलाई 2008

चमकते चांद को टूटा हुआ तारा बना डाला

आवारगी:
चमकते चांद को टूटा हुआ तारा बना डाला ।
मेरी अवारगी ने मुझ्को आवारा बना डाला ॥
गायक:ग़ुलाम अली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!