सोमवार, 28 जुलाई 2008

न जाने कब वो पलट आएं, घर खुला रखना



इफ़्तिखार 1:

न जाने कब वो पलट आएं, घर खुला रखना

कवि: इफ़्तिखार नसीम इफ़्ती

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!