मंगलवार, 29 जुलाई 2008

ऐ जानेमन ऐ जानेजां, हो कभी मेहरबां

नुसरत1:
ऐ जानेमन ऐ जानेजां, हो कभी मेहरबां
गायक: नुसरत फ़तेह अली खां

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!