मंगलवार, 29 जुलाई 2008

आज वही गीतों की रानी, आज वही है जाने ग़ज़ल

पंकज:1

आज वही गीतों की रानी, आज वही है जाने ग़ज़ल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!