गुरुवार, 24 जुलाई 2008

ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें

ग़ज़ल: ग़ज़ल "ज़िन्दगी जब भी तेरी बज़्म में लाती है हमें"
फ़िल्म: उमराव जान

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!