सोमवार, 28 जुलाई 2008

कल्बे हयात बन गया सांसों का तार भी…

इफ़्तिखार4:
कल्बे हयात बन गया सांसों का तार भी…

कवि: इफ़्तिखार नसीम इफ़्ती

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!