रविवार, 27 जुलाई 2008

हम को किसके ग़म ने मारा, यह कहानी फ़िर सही

आवारगी: हम को किसके ग़म ने मारा, यह कहानी फ़िर सही
गायक: ग़ुलाम अली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!