शनिवार, 2 अगस्त 2008

दिल जला के मेरा, मुसकुराते हैं वो

गुलाम अली
दिल जला के मेरा, मुसकुराते हैं वो
अपनी आदत से कब बाज़ आते हैं वो

गायक: गुलाम अली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!