मंगलवार, 5 अगस्त 2008

आहिस्ता कीजिये बातें, धड़कनें कोई सुन रहा होगा

पंकज
आहिस्ता कीजिये बातें, धड़कनें कोई सुन रहा होगा
लफ़्ज़ गिरने न पाएं होठों से, वक़्त के हाथ इन को चुन लेंगे


गायक: पंकज उदास

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!