गुरुवार, 7 अगस्त 2008

जाने जां तू है कहां

नुसरत
जाने जां तू है कहां, सांसों में तू, आंखों में तू, गीतों में तू, धड़कन में तू।
तू सपना है या कोई साया, तुझे मैनें दिल में बसाया॥ तेरी याद, तेरी याद…………।

गायक: नुसरत फ़तेह अली खां

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!