बुधवार, 20 अगस्त 2008

चले तो कट ही जायेगा सफ़र…(मुसर्रत नज़ीर की आवाज़)

मुसर्रत
चले तो कट ही जायेगा सफ़र, आहिस्ता आहिस्ता
हम उसके पास जाते हैं मगर, आहिस्ता आहिस्ता

गायिका: मुसर्रत नज़ीर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!