गुरुवार, 7 अगस्त 2008

सावन की भीगी रातों में…

नुसरत
सावन की भीगी रातों में जब फूल खिले बरसातों में
जब छेड़ें सखियां बातों में, तेरी यादां…………

गायक: नुसरत फ़तेह अली खां

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!