बुधवार, 27 अगस्त 2008

वह बातें तेरी वह फ़साने तेरे…(मलिका पुखराज की आवाज़)

मलिका
वह बातें तेरी वह फ़साने तेरे
शगुफ़्ता शगुफ़्ता बहाने तेरे……

गायिका: मलिका पुखराज

1 टिप्पणी:

  1. इनकी गई यह ग़ज़ल मुझे बेहद पसंद है :

    दर्द से मेरे है तुझ को
    बेक़रारी हाय हाय !
    क्या हुई जालिम तेरी
    गफलत शिआरी हाय हाय ?!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!