बुधवार, 20 अगस्त 2008

मस्त नज़रों से अल्ला बचाए…(नुसरत फ़तेह अली खां की आवाज़)

नुसरत
मैने मासूम बहारों में तुझे देखा है
मैने पुर-नूर सितारों में तुझे देखा है……
मस्त नज़रों से अल्ला बचाए……………

गायक: नुसरत फ़तेह अली खां

3 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut chah thee sunane ki magar sun nahi paye. aapki link ne kam nahi kiya

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ.मेराज़ साहब,
    बहुत अच्छा काम कर रहे हैं.गीत,ग़ज़ल,संगीत सारे लुत्फ़ यहाँ उठाये जा सकते हैं. कव्वाली ने रंग जमा दिया.मस्त आँखों से अल्ला अल्ला बचाये.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!