बुधवार, 13 अगस्त 2008

चिटठी आयी है, आयी है, वतन से चिटठी आयी है…(पंकज उदास की आवाज़ में)

आज़दी के शुभ अवसर पर पेश है यह गीत…

चिटठी आयी है, आयी है, वतन से चिटठी आयी है
बड़े दिनों के बाद, हम बे वतनों की याद, वतन से मिटटी आयी है……
पंकज
गायक: पंकज उदास

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!