शनिवार, 2 अगस्त 2008

अभी वो कमसिन उभर रहा है, अभी है उस पर शबाब आधा

जगजीत
अभी वो कमसिन उभर रहा है, अभी है उस पर शबाब आधा
अभी जिगर में खलिश है आधी, अभी है मुझ पर……

गायक: जगजीत सिंह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!