बुधवार, 20 अगस्त 2008

दिल के अफ़साने निगाहों की ज़ुबां तक पहुंचे…(नूर जहां की आवाज़)

नूर
दिल के अफ़साने निगाहों की ज़ुबां तक पहुंचे
बात चलने की भी है, अब देखें कहां तक पहुंचे

गायिका: नूर जहां

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!