सोमवार, 4 अगस्त 2008

मोहे आयी न जग से लाज, घुंघरू टूट गए

पंकज उदास
मोहे आयी न जग से लाज, मैं इतना ज़ोर से नाची आज
कि घुंघरू टूट गए……

गायक: पंकज उदास

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!