शुक्रवार, 10 अक्तूबर 2008

यह शाम फिर नहीं आयेगी…(नुसरत फ़तेह अली खान की आवाज़)

नुसरत
यह शाम फिर नहीं आयेगी
कुछ न कहा तो यूं ही ढल जायेगी

गायक: नुसरत फ़तेह अली खान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!