मंगलवार, 25 नवंबर 2008

होय मेरा दिल दे गया… (नुसरत फ़तेह अली खां की आवाज़)

नुसरत
होय मेरा दिल ले गया कोई छैल छबीला बांका सा
लड़ गये नैन लुट गया चैन जुलमी ने ऐसे लूटा……

गायक: नुसरत फ़तेह अली खां

शुक्रवार, 21 नवंबर 2008

बड़े भाई साहब्…(कथा सम्राट प्रेमचन्द की मशहूर कहानी)

प्रेमचन्द
हास्य व्यंग्य से परिपूर्ण अपने समय की शिक्षा व्यवस्था को उघाड़ती हुई कहानी "बड़े भाई साहब" का प्रेम चन्द की महत्वपूर्ण कहानियों मे नाम लिया जाता है।

लेखक: प्रेमचन्द
स्वर: मेराज अहमद

गीत ने नेह सजाया रूप मेरा…( कुमार आदित्य की अवाज़)

कुमार
गीत ने नेह सजाया रूप मेरा मैं तुम्हें अनुराग से उर में सजाऊं
रंग कोमल भावना का भरा है लहरती देखकर धाती धरा……

गीतकार : महेन्द्रभटनागर
गायक : कुमार आदित्य विक्रम

मंगलवार, 18 नवंबर 2008

आज तुम्हारी आयी याद मन में गूंजा अनहद नाद… ( कुमार आदित्य की अवाज़)

कुमार

आज तुम्हारी आयी याद,
मन में गूँजा अनहद नाद !
बरसों बाद
बरसों बाद !

*

साथ तुम्हारा केवल सच था,
हाथ तुम्हारा सहज कवच था,
सब-कुछ पीछे छूट गया,
पर जीवित पल-पल का उन्माद !
आज तुम्हारी आयी याद !

*

बीत गये युग होते-होते,
रातों-रातों सपने बोते,
लेकिन उन मधु चल-चित्रों से
जीवन रहा सदा आबाद !
आज तुम्हारी आयी याद !

**************************

गीतकार : महेन्द्रभटनागर

गायक : कुमार आदित्य विक्रम

(कुमर आदित्य ग्वालियर एम0 पी0 के उभरते कलाकार हैं। वर्तमान में मुम्बई में रहकर फ़िल्म सगीत की यात्रा के लिये तैयारी कर रहें हैं)