मंगलवार, 18 नवंबर 2008

आज तुम्हारी आयी याद मन में गूंजा अनहद नाद… ( कुमार आदित्य की अवाज़)

कुमार

आज तुम्हारी आयी याद,
मन में गूँजा अनहद नाद !
बरसों बाद
बरसों बाद !

*

साथ तुम्हारा केवल सच था,
हाथ तुम्हारा सहज कवच था,
सब-कुछ पीछे छूट गया,
पर जीवित पल-पल का उन्माद !
आज तुम्हारी आयी याद !

*

बीत गये युग होते-होते,
रातों-रातों सपने बोते,
लेकिन उन मधु चल-चित्रों से
जीवन रहा सदा आबाद !
आज तुम्हारी आयी याद !

**************************

गीतकार : महेन्द्रभटनागर

गायक : कुमार आदित्य विक्रम

(कुमर आदित्य ग्वालियर एम0 पी0 के उभरते कलाकार हैं। वर्तमान में मुम्बई में रहकर फ़िल्म सगीत की यात्रा के लिये तैयारी कर रहें हैं)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!