शुक्रवार, 21 नवंबर 2008

गीत ने नेह सजाया रूप मेरा…( कुमार आदित्य की अवाज़)

कुमार
गीत ने नेह सजाया रूप मेरा मैं तुम्हें अनुराग से उर में सजाऊं
रंग कोमल भावना का भरा है लहरती देखकर धाती धरा……

गीतकार : महेन्द्रभटनागर
गायक : कुमार आदित्य विक्रम

1 टिप्पणी:

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!