शनिवार, 6 दिसंबर 2008

समझ सके ना लोग सयाने……(नुसरत फ़तेह अली खां की आवाज़)

नुसरत
समझ सके ना लोग सयाने,
इश्क़ का रुतबा इश्क़ ही जाने…

गायक: नुसरत फ़तेह अली खां

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!