शुक्रवार, 27 फ़रवरी 2009

बुधवार, 18 फ़रवरी 2009

सोमवार, 16 फ़रवरी 2009

बडी हसीन रात थी्…जगजीत सिंह की अवाज़


चराग़ अफ़ताब गुम बडी हसीन रात थी
शबाब की नक़ाब गुम बडी हसीन रात थी

गयक: जगजीत सिंह

रविवार, 15 फ़रवरी 2009

शनिवार, 14 फ़रवरी 2009

शनिवार, 7 फ़रवरी 2009

नैहरवा हमका न भावै…कैलाश खेर की अवाज़


नैहरवा हमका न भावै, साईं की नगरी परम अति सुंदर…अति सुंदर।
जहां कोई जाये न आवै, चांद सुरज जहां पवन न पानी, को सदेश पहुंचाव॥

गायक: कैलाश खेर

शुक्रवार, 6 फ़रवरी 2009

अनुदर्शन…कुमार आदित्य की अवाज़, कवि महेन्द्रभटनागर


उड गये ज़िंदगी के बरस रे कई राग सूनी अभावों भरी।
लओ कर आयेगा अब नहीं जो धूल मे धूप मे खो गया॥

गायक:कुमार आदित्य
कवि: महेन्द्र भटनागर