मंगलवार, 3 फ़रवरी 2009

तुम बजाओ साज़ दिल का…कवि महेन्द्र भटनागर

महे्न्द्रा

तुम बजाओ साज़ दिल का 

ज़िंदगी का गीत मैन गाऊं

स्वर और कवि: महेन्द्र भटनागर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!