शनिवार, 7 मार्च 2009

बीते हुए लमहों की कसक साथ तो होगी…फ़िल्म: तलाक़

अभी अलविदा मत कहो दोस्तो, न जाने कहां फिर मुलाक़ात हो
क्योंकि…
बीते हुए लमहों की कसक साथ तो होगी 
खाबों ही में हो चाहे मुलाक़ात तो होगी

फ़िल्म: तलाक़

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!