सोमवार, 13 अप्रैल 2009

कहानी…मोहन राकेश

मलबे का मालिक

आज़ादी के बाद लिखी गयी हिन्दी कहानियोँ में मलबे का मालिक अत्यन्त महत्वपूर्ण कहानी है। भारत विभाजन की त्रासदी पर आधारित इस कहानी के बिना नई कहानियों की चर्चा पूरी हो ही नहीं सकती है।

कहानीकर:मोहन राकेश

स्वर:मेराज अहमद

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2009

अपना है तू बेगाना नहीं मैंने तुझे पहचाना नहीं…मोहम्मद रफ़ी

अपना है तू बेगाना नहीं मैंने तुझे पहचाना नहीं
यह सच है अफ़साना नहीं मैंने तुझे पहचाना नहीं

गायक: मोहम्मद रफ़ी
फ़िल्म:महबूब की मेंहदी

बुधवार, 1 अप्रैल 2009

दिल के झरोके में तुझको बिठाकर…मोहम्मद रफ़ी


दिल के झरोके में तुझको बिठाकर
यादों को मैं तेरी दुल्हन बनाकर
रक्ख़ूंगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

गायक: मोहम्मद रफ़ी
फ़िल्म:ब्रह्मचारी