बुधवार, 1 अप्रैल 2009

दिल के झरोके में तुझको बिठाकर…मोहम्मद रफ़ी


दिल के झरोके में तुझको बिठाकर
यादों को मैं तेरी दुल्हन बनाकर
रक्ख़ूंगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

गायक: मोहम्मद रफ़ी
फ़िल्म:ब्रह्मचारी

1 टिप्पणी:

  1. एक सांस में गाया गया मुखड़ा...ये रफी साहब के ही बस की बात थी...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!