रविवार, 11 अक्तूबर 2009

सितम भि सहना, दुआ भी देना- मुन्नी बेगम की आवाज़

सितम

सितम भी सहना, दुआ भी देना।

है बेबसी का गया ज़मान॥

अगर है जुर्रत, गिराओ बिजली।

बना रहा हूं नया ठिकाना॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!