शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2009

बुझी हुई शम्मा का धुआँ हूँ…मुन्नी बेगम


बुझी हुई शम्मा का धुआँ हूँ
और अपने मरकज़ को जा रहा हूँ

गायिका: मुन्नी बेगम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!