मंगलवार, 17 नवंबर 2009

शब को मेरा जनाज़ा जायेगा यूँ निकलकर…मुन्नी बेगम

शब को मेरा जनाज़ा जायेगा यूँ निकलकर
रह जायेंगे सहर तक दुश्मन भी हाथ मलकर
गायिका: मुन्नी बेगम

2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!