शनिवार, 4 जून 2011

ऐ इश्क हमें इतना तू बता, अंजाम हमारा क्या होगा... मुन्नी बेगम

ऐ इश्क हमें
ऐ इश्क हमें इतना तू बता, अंजाम हमारा क्या होगा
तकदीर बता अब इससे बुरा, अंजाम हमारा क्या होगा
ऐ इश्क हमें ...

नादान चमन में कलियों ने, लब खोले नहीं हंसने के लिए
वो पूछ रही है शबनम से, अंजाम हमारा क्या होगा
ऐ इश्क हमें ...

कश्ती न रही, साहिल न रहा, साहिल की तमन्ना भी न रही
ऐ पूछने वाले ज़ाहिर है, अंजाम हमारा क्या होगा
ऐ इश्क हमें इतना तू बता, अंजाम हमारा क्या होगा

2 टिप्‍पणियां:

आपकी टिप्पणियों का स्वागत है!